Thursday, July 8, 2010

gazal

गल्लां विच्चों गल्ल निकलदी, गल्ल पहुंचदी दूर
मैं हां रांझे वरगा गबरु , तू हैं मेरी हूर

आजा मिल के फ़ेर छेडीये ,उह भुल्ली गल्ल
हथों छुट गया हथ ना औंदा, वक्त नहीं मजबूर

रातां वी मैं जाग के कट्टां ,सुफ़ने घट ही औण
नींद कदे जद आ जांदी तां, औंदी है भरपूर

कौण किसे दा रुत दा साथी, कौण किसे दा मीत
सारे इक्को वरगे मौसम, पर रहंदे ने दूर

है किस्मत दा लेखा-जोखा ,जां कर्मां दा फल
"आज़र" किस नूं कैद ’च रहणा, हुदां है मंजूर

No comments:

Post a Comment